Expression of Ethos and Ideology....

 

संवाद को जानें

Film

Gallery

 

संवाद को जानें

संवाद ट्रस्ट रजिस्ट्रेशन एक्ट 1882 के अंतर्गत निबंधित है। इसका निबंधन दिनांक 21 मार्च 2001 को रांची में हुआ है। अपने स्थापना काल से लेकर आज तक संवाद विकास की संपूर्ण प्रक्रियाओं एवं संचार प्रणालियों में तालमेल स्थापित करने की दिशा में अग्रसर है। देशज समुदायों के साथ मिलकर संवाद सामाजिक-आर्थिक परिवर्तन हेतु कार्यरत् रहा है।

'संवाद' झारखंडी समाज की सांस्कृतिक चेतना का सृजनात्मक पहल है। एक ऐसा समूह जो शोध एवं संचार की दुनिया में, सामूहिक अभिक्रम में विश्वास रखता है तथा सेकुलर लोकाचार की जीवंतता के लिए प्रतिबध्द है। 'संवाद' उस प्रक्रिया का नाम है जो समानता और सहअस्तित्व के लोकाचार को आगे बढ़ाता है। 'संवाद' सहजन और रचनात्मक सामाजिक सत्ता का सरोकार है तथा हौसला और जिंदगी की जीत पर यकीन रखता है। 'संवाद' विवेक और वस्तुपरकता की वैज्ञानिक चेतना का अभिक्रम है।

झारखंड की अस्मिता, कला, संस्कृति और साहित्य को 'संवाद' फलक देता है। 'संवाद' जीवन के मानवीय विवेक की पहचान है और उस कोशिश का नाम है जो न्यायप्रिय समाज के नवनिर्माण की चुनौती को साहस के साथ स्वीकार करता है। 'संवाद' सामूहिकता, स्त्री-पुरुष समानता, संपत्ति पर सामूहिक हक के साथ सर्वानुमति मूलक जनतंत्र के लिए पहल है। 'संवाद' उस धरातल को फौलाद की तरह बनाए रखने में यकीन करता है जिसमें बहुलता और विविधता का दर्शन-जीवन पुष्पित होता है। सौ फूलों को अनेक रंगों के साथ देखने-समझने की जनतांत्रिक प्रयास ही 'संवाद' का सूत्र है।

'संवाद' उस जीवंत बहस का नाम है जिसमें असहमति के लिए गुंजाइश है और उस संसार का स्वप्न है जिसमें मनुष्य की वर्गहीन तथा वर्णहीन व्यवस्था उठ खड़ी होगी।

'संवाद' के सपने समाज के व्यापक जनसमुदाय से जुड़े हुए हैं और उसमें सृजनात्मकता की उष्मा और उर्जा स्रोत का आवेग हिलोरे लेता है। मकसद साफ है एक समानतामूलक संसार के विचारों को जीवित बनाए रखने के लिए वैचारिक और प्रयोगात्मक गतिशीलता को बनाए रखना।

इतिहास सभ्यता के अनेक उतार-चढ़ावों का गवाह है। इतिहास मनुष्य की सामूहिक उर्जा का साक्ष्य है। हम इतिहास की वस्तुपरक विवेचना के साथ बदलने में, विश्वास करते हैं। एक ऐसे इतिहास को गढ़ने का इरादा है जिसमें मनुष्य अपनी सर्वोत्ताम अभिव्यक्ति कर सके और स्वतंत्रता, समानता तथा जनतंत्र का नया मानक गढ़ सके। हम अपनी साझा विरासत और साझा शहादतों की परंपरा को आधुनिक रूप देना चाहते हैं। हम देशज समाज की चेतना को, वैज्ञानिक बोध को नवीन रूप देना चाहते है और निर्माण के साथ संघर्ष का सांस्कृतिक आंदोलन बनाना चाहते हैं। हम सेकुलर बोध के साथ सभी के बराबरी को जमीनी यथार्थ बनाना चाहते हैं। भविष्य का निर्माण हम आज की वास्तविकताओं से सृजनात्मक टकराव के साथ करना चाहते हैं। 'संवाद' का विश्वास है कि दुनिया में तब तक न्याय जीवित रहेगा जब तक साहस की एक भी चिंगारी शेष है।

संवाद का उद्देश्य

  • समतावादी और न्यायमूलक समाज की स्थापना के लिए विभिन्न जनसंगठनों, समूहों, संस्थाओं एवं व्यक्तियों को संगठित करना तथा इनके बीच समन्वय स्थापित करना।
  • समता, लैंगिक समानता, स्वतंत्रता, न्यायमूलक तथा भाईचारा व बहनापा की स्थापना हेतु लोगों को जागरूक करना।
  • शोषण, अन्याय, अत्याचार से मुक्त समाज की स्थापना करना तथा देशज सांस्कृतिक अस्मिता को स्थापित करना।
  • परंपरागत पध्दति को बिना छेड़े सामाजिक-आर्थिक तथा पर्यावरणीय तंत्र को विकसित करना। इसके लिए सामाजिक कार्यकर्ता, वैज्ञानिक, इंजीनियर, बुध्दिजीवी तथा कलाकार की तलाश करना तथा इनके विचारों एवं अनुभवों को जनता के साथ आदान-प्रदान करना।
  • सतत् विकास तथा देशज सांस्कृतिक अवधारणा को ग्राम स्तर तक ले जाना।
  • महिला, आदिवासी, दलित तथा अल्पसंख्यकों के बीच सामाजिक एवं आर्थिक विकास करना।
  • आदिवासी जीवन पद्धति के सांस्कृतिक विरासत का संरक्षण, संवर्ध्दन करना। इसके लिए अध्ययन एवं शोध कार्य करना।
  • सेकुलर समाज की स्थापना के लिए पहल करना।
  • चेतना निर्माण के लिए शिक्षण-प्रशिक्षण एवं संसाधन केंद्र की स्थापना करना।
  • अध्ययन एवं शोध केंद्र, पुस्तकालय, दस्तावेज केंद्र, संग्राहालय, दृश्य श्रव्य केंद्र की स्थापना करना।
  • स्थानीय तथा क्षेत्रीय इतिहास, संस्कृति, लोककला तथा दस्तकारी का दस्तावेजीकरण एवं संरक्षण।
  • पूर्ण अलाभकारी तथा सेकुलर संस्थाओं को विकसित करना।
रणनीति
  • सहमना समूह एवं व्यक्तियों के साथ नेटवर्किंग करना
  • क्षमता संवर्ध्दन करना
  • साधन सामग्री का संकलन और संपादन व प्रकाशन करना
  • सक्षम मानवसंसाधन विकसित करना
  • वैचारिक क्षमता निर्माण करना
  • संवाद का अभिक्रम
  • शिक्षण-प्रशिक्षण

रचनात्मक विमर्श

  • सृजनात्मक सांस्कृतिक पहल
  • शोध एवं अध्ययन
  • संचार सामग्रियों का निर्माण एवं वितरण
  • शोधपरक तथ्यों का संकलन, प्रकाशन एवं वितरण
  • फिल्म निर्माण एवं प्रदर्शनी

वर्तमान कार्यक्रम एवं गतिविधियां

  • विद्यालयों में मानवाधिकार शिक्षण
  • डिजीटल झारखंड अर्काइव द्वारा परंपरागत कला, संस्कृति का संरक्षण
  • ग्रीन इनर्जी
  • स्वशासन एवं पंचायती राज
  • कृषि एवं सतत् आजीविका
  • सामाजिक विषयों पर पोस्टर निर्माण
  • एकल महिला सशक्तिकरण
  • अध्ययन शोध एवं प्रकाशन का वितरण

Copyright (C)  "SAMVAD" 104 & 301/A-Urmila Enclave, Peace Road,Lalpur,Ranchi-834001(Jharkhand)INDIA